Breaking News

इंटर टॉपर्स घोटाला : बच्चा राय को अभी रहना पड़ेगा जेल में, सुप्रीम कोर्ट ने नहीं दी जमानत

लाइव सिटीज डेस्क : इंटर टॉपर्स घोटाला का मुख्य अभियुक्त बच्चा राय को राहत नहीं. उन्हें सुप्रीम कोर्ट ने जमानत नहीं दी. सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में सुनवाई हई. अब बच्चा राय को जेल में ही रहना होगा. इसकी अगली सुनवाई सात अप्रैल को होगी.

दरअसल, इंटर टॉपर घोटाले में मास्टर माइंड बच्चा राय पर आज सुप्रीम कोर्ट में अहम सुनवाई हुई. सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई के दौरान कोर्ट ने बच्चा राय की जमानत याचिका खारिज कर दी. आपको बता दें कि पटना हाईकोर्ट द्वारा बच्चा राय को दी गयी जमानत के खिलाफ बिहार सरकार सुप्रीम कोर्ट में जमानत को रद्द करने की याचिका डाली थी. कोर्ट ने सुनवाई के दौरान यह भी कहा कि यदि बच्चा राय जेल से बाहर रहा, तो वह इंटर टॉपर्स घोटाले में चल रहे ट्रायल को भी प्रभावित कर सकता है.

गौरतलब है कि पटना हाईकोर्ट ने बच्चा राय के मामले में कहा था कि अगर 30 दिनों के भीतर बच्चा राय के खिलाफ चार्जफ्रेम नहीं हुआ, तो उसे जमानत दे दी जाएगी. कोर्ट के इस फैसले के बाद बिहार सरकार और इंटर टॉपर घोटाले की जांच कर रही टीम पर सवालिया निशान लगने शुरू हो गए थे. सरकार की किरकिरी होता देख बिहार सरकार बच्चा राय की जमानत के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट गयी और उसकी जमानत रद्द करने की मांग की. इसी मामले पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. हालांकि बच्चा राय ने सुप्रीम कोर्ट के नोटिस का जवाब दिया. बच्चा ने खुद को निर्दोष बताया है. वहीं एक सप्ताह में बिहार सरकार से जवाब मांगा है. इसकी अगली सुनवाई सात अप्रैल को होगी.

ज्ञातत्य है कि इंटर टॉपर्स घोटाले में शामिल बिहार बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष लालकेश्वर सिंह और उनकी पत्नी उषा सिन्हा, हाजीपुर के विष्णु राय डिग्री कॉलेज के प्रिंसिपल बच्चा राय समेत कई लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. इस मामले के सामने आने के बाद से ही राज्य की शिक्षा व्यवस्था पर लगातार ऊंगली उठायी जाती रही है. बताते चलें पिछले साल बिहार में हुए इंटर टापर्स घोटाला मामले में बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद सिंह, उनकी पत्नी ऊषा सिंह, पूर्व सचिव हरिहरनाथ झा समेत बच्चा राय भी मुख्य आरोपियों में लिस्ट में शामिल हैं. बच्चा राय पर अपने कॉलेज के छात्रों को परीक्षा में लाभ पहुंचाने के लिए मूल्यांकन केन्द्र में बदलाव करवाने का आरोप है.

यह भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट ने बच्चा राय से पूछा, क्यों न आपकी जमानत रद्द कर दी जाए

पिछले साल इंटर टॉपर घोटाले में वीआर कॉलेज, भगवानपुर के प्राचार्य अमित कुमार उर्फ बच्चा राय को पुलिस ने गिरफ्तार किया था. पुलिस ने दावा किया कि उसे वीआर कॉलेज परिसर के पास से गिरफ्तार किया गया और उसके बाद एसआटी के हवाले कर दिया गया, जबकि बच्चा राय ने मीडिया से कहा कि मैंने सरेंडर किया है. गिरफ्तारी के बाद उसे पटना पुलिस लाइन आया गया था. फिर बच्चा राय को जेल भेज दिया गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *