बड़े भाई और छोटे भाई के फेर में पिसते रहे हैं अल्पसंख्यक : कैफ़ी

बांका : बड़े भाई और छोटे भाई की राजनीति की चक्की में बिहार के अल्पसंख्यक पिछले 27 वर्षों से पिसते चले आ रहे हैं. राज्य में अल्पसंख्यकों की स्थिति निरंतर बिगड़ती चली जा रही है. पिछले 27 वर्षों से बिहार में बड़े भाई और छोटे भाई का शासन रहा है. लेकिन इस दौरान उन्हें सिर्फ वोट बैंक के तौर पर देखा-परखा और उपयोग किया गया है.

लोक जनशक्ति पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष शहनवाज अहमद कैफ़ी ने बुधवार को बांका जिले के धोरैया प्रखंड अंतर्गत जयपुर पंचायत मुख्यालय में आयोजित लोजपा अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के जिला सम्मेलन में ये बातें कहीं. सम्मेलन की अध्यक्षता प्रकोष्ठ के प्रखंड अध्यक्ष शब्बीर आलम अंसारी ने की जबकि प्रदेश उपाध्यक्ष मीर इसराक हुसैन, लोजपा जिला अध्यक्ष बेबी यादव, उपाध्यक्ष नीरज सिंह, आसिफ खान आदि प्रमुख रूप से इस अवसर पर उपस्थित थे. सम्मेलन में बड़ी संख्या में जिले के अल्पसंख्यक पार्टी कार्यकर्ताओं ने भाग लिया.

सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष शहनवाज अहमद कैफ़ी ने कहा कि बिहार में अल्पसंख्यकों की शिक्षा के नाम पर कुछ भी नहीं हुआ है. फलस्वरुप यह समुदाय आज भी जहालत की स्थिति में पड़ा हुआ है. अल्पसंख्यकों के गांव और मोहल्लों में सड़कें नहीं हैं. कब्रिस्तानों की घेराबंदी का काम ठप है. अल्पसंख्यक नौजवान बेरोजगारों को रोजगार मुहैया नहीं कराए जा रहे. अल्पसंख्यक वित्त निगम सफेद हाथी सिद्ध हो रहा है. जिनके लिए इस निगम की स्थापना हुई, उन्हें इसका कोई लाभ नहीं मिल रहा. जबकि दूसरी ओर एनडीए कि केंद्र सरकार देशभर में अल्पसंख्यकों की बेहतरी के लिए बेहतरीन काम कर रही है.

उन्होंने लोजपा अल्पसंख्यक मोर्चा को संगठन के स्तर पर और भी ज्यादा मजबूत करने की जरूरत पर बल दिया. उन्होंने कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे संगठन को हर गांव तक पहुंचाएं. वहां के लोगों को जोड़ें और पार्टी संगठन को मजबूत करें. ताकि देश में एक बेहतर सरकार को अधिक से अधिक ताकत मिल सके. सम्मेलन को उपाध्यक्ष मीर इसराक हुसैन ने भी संबोधित किया. उन्होंने भी संगठन की मजबूती पर बल देते हुए इसके लिए कार्यकर्ताओं को आगे आने की अपील की.

kaifi-1

लोजपा जिलाध्यक्ष बेबी यादव ने इस अवसर पर कहा कि लोजपा आम लोगों की पार्टी है. यह आम लोगों की आवाज बनती है. इस संगठन को जन जन का समर्थन हासिल है. इसकी नीतियां आम जनता, गरीबों और दलितों के हित में हैं. उन्होंने गांव, मोहल्ले और पंचायत के स्तर से लेकर जिला स्तर तक संगठन को मजबूत करने के लिए कार्यकर्ताओं को बढ़-चढ़कर काम करने की अपील की. उन्होंने कहा कि एनडीए की केंद्र सरकार की जन कल्याणकारी नीतियों और योजनाओं को आम जन तक पहुंचाने के लिए कार्यकर्ता कमर कसकर जमीन पर उतरें.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *